स्टॉक मार्केट क्या है? स्टॉक कैसे खरीदें या बेचें 2021 में?

0
48
STOCK MARKET
STOCK MARKET खरीदें या बेचें?

स्टॉक मार्केट क्या है ? स्टॉक कैसे खरीदें या बेचें?-

Stock Market एक ऐसी जगह है जहां कई सूचीबद्ध कंपनियों के शेयरों का कारोबार होता है। प्राथमिक बाजार (Primary Market) वह जगह है जहां कंपनियां पूंजी जुटाने के लिए एक प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश (IPO) में आम जनता को शेयर देती हैं।

एक बार जब नई प्रतिभूतियाँ (Securities) प्राथमिक बाजार में बेची जाती हैं, तो उनका कारोबार द्वितीयक बाजार (Secondary Market) में किया जाता है – जहां एक निवेशक (Investor) दूसरे निवेशक से मौजूदा बाजार मूल्य पर शेयर खरीदता है या जिस भी कीमत पर खरीदार और विक्रेता दोनों सहमत होते हैं। द्वितीयक बाजार या स्टॉक एक्सचेंज नियामक प्राधिकरण द्वारा विनियमित होते हैं। भारत में द्वितीयक और प्राथमिक बाजार सिक्योरिटी एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ़ इंडिया (SEBI) द्वारा शासित होते हैं।

स्टॉक मार्किट में निवेश की शुरूआत कैसे करें? ( how to start invest in stock market)

भारत में पिछले कुछ सालों में स्टॉक मार्केट में निवेश बढ़ रहा है। इसका कारण है कि अब स्मार्टफोन यूजर्स की लगातार संख्या बढ़ती जा रही है और इसकी मदद से Stock Market के उतार चढ़ाव का तुरंत अपडेट मिल जाता है। इसके अलावा इंटरनेट पर स्टॉक मार्केट के बारे में कई जानकारियां मौजूद है, जिससे निवेश करने से पहले निवेशकों को स्टॉक मार्केट की सभी जानकारियां आसानी से मिल जाती है। अब आप ऑनलाइन डीमेट अकॉउंट भी ओपन कर सकते हैं।

लेकिन Stock Market में निवेश करने के लिए उसके बारे में यह जानकारी होना जरूरी नहीं है, बल्कि उसके लिए कौन-कौन से डॉक्युमेंट्स जरूरी हैं, किस तरह का अकॉउंट ओपन करना चाहिए, कम से कम कितने पैसों की जरूरत होगी, खरीदने और बेचने की प्रक्रिया और लाभ के बारे में भी पूरी तरह से जानकारी होना जरूरी है। इस आर्टिकल में हम आपको उन सभी चीजों के बारे में बताएंगे जो Stock Market में काम आती हैं।

स्टॉक मार्केट में निवेश के लिए किन चीजों की पड़ती है जरूरत:

Stock Market में निवेश के लिए आपके पास 3 चीजें जरूर होने चाहिए- पैन कार्ड, KYC के लिए डॉक्युमेंट और इंटरनेट बैंकिंग।

पैन कार्ड: पैन कार्ड में 10 अंकों का परमानेंट बैंक अकाउंट नंबर होता है। स्टॉक मार्केट में निवेश के लिए आपके पास पैन कार्ड जरूर होना चाहिए। पैन के जरिए सरकार आपके आय और व्यय का ब्यौरा जानती है। अगर आपके पास पैन कार्ड उपलब्ध नहीं है तो NSDL की वेबसाइट पर जाकर इसका आवेदन कर सकते हैं। 15 दिन के अंदर आपके घर पर पैन कार्ड आ जाएगा।

KYC के लिए डॉक्युमेंट: KYC के लिए आपके पास आधार कार्ड, वोटर आईडी, पासपोर्ट या बिजली बिल में से कोई एक डॉक्युमेंट जरूर होना चाहिए। क्योंकि इन डॉक्युमेंट्स में आपका एड्रेस डिटेल दिया गया होता है।

इंटरनेट बैंकिंग: आपका बैंक अकॉउंट किसी भी बैंक में हो लेकिन उसका इंटरनेट बैंकिंग या मोबाइल बैंकिंग आपके पास जरूर होना चाहिए। इससे आपको पैसे ट्रांसफर और रिसीव करने में कोई समस्या नहीं आएगी। जैसे: आप जो भी शेयर खरीदते हैं, उसके लिए आपको अपने ब्रोकर को पेमेंट देना होता है। ब्रोकर उस पेमेंट को शेयर बेचने वाले को देता है। आपने जो भी शेयर खरीदते हैं वह आपके डीमैट अकाउंट में जमा कर देता है।

ब्रोकर को ऑनलाइन पेमेंट देने के लिए ही इन्टरनेट बैंकिंग या मोबाइल बैंकिंग की जरुरत पड़ती है। आपके पेमेंट के रिकॉर्ड के लिए ब्रोकर एक ट्रेडिंग अकाउंट ओपन करता है। स्टॉक खरीदने के लिए सबसे पहले आपको ट्रेडिंग अकाउंट में पैसे जमा करने होगे और जब आप शेयर बेचेंगे तो ब्रोकर इसी ट्रेडिंग अकाउंट में शेयर के बदले पैसा जमा कर देगा।

अच्छे स्टॉक ब्रोकर का चुनाव करना है जरूरी:

कोई भी निवेशक किसी भी स्टॉक को चाहे वो BSE का हो या NSE का, बिना ब्रोकर के खरीद या बेच नहीं सकता है। किसी भी स्टॉक को  Stock Market तक खरीदने या बेचने की प्रक्रिया को स्टॉक ब्रोकर द्वारा पूरा किया जाता है। इसीलिए आजकल कई स्टॉक ब्रोकर अपनी ऑनलाइन सुविधाएं देते हैं। स्टॉक ब्रोकर की एजेंसी को स्टॉक एक्सचेंज में स्टॉक खरीदने या बेचने की अनुमति होती है।

Stock Market  में निवेश के लिए दो अकॉउंट की पड़ती है जरूरत:

जब हम Stock Market में निवेश के लिए किसी स्टॉक ब्रोकर के पास जाते हैं तो वो आपके लिए दो प्रकार के अकाउंट्स ओपन करता है- डिमेट अकॉउंट और ट्रेडिंग अकॉउंट।

डिमेट अकॉउंट (Demat Account): खरीदे गए शेयर को अपने पास रखने के के लिए डिमेट अकॉउंट की आवश्यकता पड़ती है। इस अकॉउंट में खरीदे गए शेयर को इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में दर्ज किया जाता है। जब आप कोई शेयर खरीदते हैं तो इसमें क्रेडिट और स्टॉक बेचने पर डेबिट हो जाता है।

ट्रेडिंग अकॉउंट (Trading Account): जब आप अपना कोई शेयर बेचते हैं तो उसके बदलने मिलने वाले पैसे को ट्रेडिंग अकॉउंट में क्रेडिट किया जाता है। इसके लिए हमें एक यूजर आईडी और पासवर्ड मिलता है जिसकी मदद से हम कोई भी स्टॉक को खरीदने या बेचने का ऑर्डर देते हैं।

स्टॉक ब्रोकर अपने सर्विस के बदलने शुल्क लेता है जिसे ब्रोकरेज कहा जाता है। इसीलिए आप ब्रोकर का चुनाव करते समय यह ध्यान रखें कि आपका ब्रोकर कम फीस लेता हो और अच्छी सर्विस देता हो।

क्या अकॉउंट में न्यूनतम बैलेंस रखने की जरूरत है?

अगर आप सोचते हैं कि आपको अपने ट्रेडिंग अकॉउंट में कुछ न्यूनतम बैलेंस रखने की जरूरत पड़ती है तो आप गलत हैं। आप 100 रुपए से लेकर अपनी मर्जी तक का शेयर खरीद सकते हैं। इसीलिए आपको सिर्फ उतने ही पैसे रखने की जरूरत है जितने का आप शेयर खरीदना चाहते हैं। इसके अलावा इस बात का ध्यान रखें कि डिमेट अकॉउंट में पैसे नहीं सिर्फ शेयर क्रेडिट या डेबिट किए जाते हैं।

स्टॉक को कैसे खरीदें या बेचें?

जब आप किसी ब्रोकर के पास अपना डिमेट और ट्रेडिंग अकाउंट खोलते हैं तो वो आपको ट्रेडिंग अकॉउंट का यूजर आईडी और पासवर्ड देगा। जब आपको स्टॉक खरीदना हो तो तो आप इसके जरिए लॉगिन कर सकते हैं और स्टॉक खरीदने का ऑर्डर दे सकते हैं। इसके बाद आपका ब्रोकर उस आर्डर को स्टॉक एक्सचेंज (BSE या NSE) में भेजता है। जैसे ही स्टॉक एक्सचेंज आर्डर को पूरा कर देता है तो आपको उसका कन्फर्मेशन मैसेज मिल जाता है।

अगर आपका Stock Market या इन्वेस्टमेंट से जुडा कोई सवाल है तो आप मुझे कमेंट मे पुछ सकते है | ज्यादा जानकारी के लिए आप मेरी वेबसाइट पर जरुर करे 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here