Profit and loss statement को समझे आसानी से

0
501
Profit and loss statement

                 Profit and loss statement

Profit and loss statement कंपनी के खर्च और आय को दिखाता है , इससे हमें कंपनी की करंट और पिछले सालों में हुए profit and loss का पता चलता है। जिससे हमें कंपनी की स्तिथि का अंदाज़ा आसानी से लगा सकते है । तो आइये reliance कंपनी की profit and loss account की उदाहरण से समझते है ।

Profit and loss statement समझने से पहले हम revenue और expense क्या होते है इनके बारे में जानते है ।

Revenue -.
कंपनी के पास कहा से कितना पैसा आया , उसे revenue कहते है।

Expensesकंपनी का कहा से कितना पैसा गया उसे expenses कहते है।

Profit and loss statement

Revenue from operations_. Profit and loss statement में पहली टर्म है revenue from operations . कंपनी के जो ऑपरेशन्स चल रहे है , उससे आया पैसा revenue from operations कहलाता है । चलाये इसे एक उदाहरण से समझते है –

मान लीजिए किसी कंपनी का notebook बनाने की फैक्ट्री है। notebook की कीमत 10 रुपया है , कंपनी ने पूरे साल में 20 लाख notebook बनाये।
10×20 लाख = 2 करोड़
अब कंपनी का revenue from operation 20 करोड़ होगा ।

Profit and loss statement

Other income _
कंपनी को स्टॉक मार्केट , म्यूच्यूअल फण्ड , रियल एस्टेट या कही और कंपनी ने निवेश किया हुआ है , तो वहाँ से आया profit other income में आयेगा। इसी तरह यदि कंपनी ने बांड्स , फिक्सेस डिपॉजिट से मिला ब्याज भी other income में आयेगा ।

अब बात करते है expenses की । तो आइए जानते है expenses की टर्म को ।

Profit and loss statement

Operating and direct expenses –. Direct expense वो होते है जो प्रोडक्ट की प्रोडक्शन से जुड़े होते है , जैसे notebook बनाने में जो raw material , labour ये सब direct expenses है।
इसी तरह कंपनी के रोज़ हो रहे खर्च जैसे marketing , office rent आदि खर्च operating expenses होते है ।

Employee benifit expenses –. इसमें कर्मचारियों की salary , provident fund , bonus , incentive आदि ये सब employee benifit expenses में आता है।

Finance costs –
अगर कंपनी ने कही से loan या और कही से पैसे उधार लिए है , तो कंपनी को जो ब्याज देना पड़ेगा वो finance cost में आयेगा।

Depreciation and amortisation expenses –
जिन चीज़ों को हम छू सकते है उन्हें tengible assets कहते है जैसे मशीनरी । मशीन की कीमत हर साल कम होती है , उस पर खर्चा होता है उसे depreciation expenses कहते है ।
जिन चीज़ों को हम छू नहीं सकते उन्हें intangible assets कहते है जैसे goodwill, patents , computer software इन सब की कीमत हर साल कम होती है , उन्हें amortisation expenses कहते है।

Other expenses –
Warranty expenses, travelling expense , fuel expense ये सब other expenses में आते है।

Depreciation and amortisation expenses

Profit/loss before tax
इसमें आपको कंपनी के टैक्स से पहले का profit/loss पता चलता है। ये colomm इसलिए दिखाया जाता है कई बार टैक्स कम या बढ़ जाता है ।

Tax – ये colomm हमे बताता है कि पूरे साल कंपनी ने कितना टैक्स भरा है , हर सेक्टर का टैक्स अलग अलग अलग होता है । जैसे दवाएंयो में 12 % , food में 18% ।

Profit /loss after tax –
कंपनी को tax निकाल के जो profit / loss बचेगा , वो profit/ loss after tax में आयेगा ।

अब मुझे लगता है आपको profit and loss statement
में सब concept आपको पता चल गये होंगे । तो कैसा लगा आपको मेरा ये ब्लॉग प्लीज मुझे कमेंट में जरूर बताये ।

ऐसे ही फाइनेंसियल ब्लोग्स के लिए हमारी वेबसाइट पर जरुर पहुंचे

धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here