Balance Sheet क्या है:Balance Sheet ko Kaise Samjhe2

0
607
Balance sheet thumbnail

                Balance Sheet क्या है:Balance Sheet ko Kaise Samjhe2

balance sheet की दूसरी साइड यानि अससेट्स के बारे में हम आज बात करेंगे। Assets यानि कंपनी के पास कैश , फैक्ट्री , मशीनरी, व्हीकल जैसी चीज़ों का पता चलता है। Assets हमे बताती है कि कंपनी ने कितनी इन्वेस्टमेंट की हुई है। तो चलिए आइये समझते है assets को । इसमें हमने Balance Sheet के हर टर्म्स को आसान शब्दों में समझाने का प्रयास किया है। आप इसे समझने के बाद खुद से अवश्य ट्राय करें ताकि आप अपने ज्ञान को बढ़ा सकें।

Non current asset

Non current assets –

ये वो assets होते है जो कंपनी के पास एक साल से ज्यादा समय के लिए हो , और कंपनी उसे आसानी से कैश में नहीं बदल सकती उन्हें non current assets कहते है ।

Tangible assets –

वो assets जिसको हम हाथ लगा सकते है छू सकते है , उन्हें tangible assets कहते है । उदाहरण : बिल्डिंग , व्हीकल , मशीन आदि ।

Intangible assets –

वो asssets जिन्हें हम छू नहीं सकते उन्हें tangible assets कहते है जैसे : पेटेंट्स , कंप्यूटर सॉफ्टवेर, गुडविल।

Capital Work-in- Progress

ये वो assets है जहाँ कंपनी का खर्च हो चूका है लेकिन काम अभी तक पूरा नही हुआ उसे capital work in progress assets कहते है ।

Intangible assets

Tangible assets , intangible assets and capital work in process इनको फिक्स्ड assets भी कहते है क्योंकि कंपनी इन्हें आसानी से कैश में नहीं कन्वर्ट कर सकती।

Non Current Investments –

वो इंवेस्टमेंट्स जो लंबे समय (एक साल से ज्यादा) के लिए होती है , उसे non current investments कहते है जैसे म्यूच्यूअल फंड्स , स्टॉकस , बांड्स आदि।

Long Term Advances and Loans _

कंपनी अपने कर्मचारी को लोन दे देती है , और सप्लायर को एडवांस पेमेंट तो यह सब long term advances and loans में आता है ।

Other Non Current Assets-

फिक्स्ड डिपॉजिट से मिला ब्याज , या और कही दिया एडवांस other non current assets में आता है ।

Other non current assets

Current Assets –

वो assets जो 1 साल से कम के लिए होते है , जिसे कंपनी आसानी से कैश में बदल सकती है उसे current assets कहते है । कंपनी इसका प्रयोग शार्ट टर्म में जिनकी पेमेंट करनी होती है तब करती है।

Current Investments –

वो इंवेस्टमेंट्स जो 1 साल से कम समय के लिए होती है उन्हें current investments कहते है। उदाहरण : म्यूच्यूअल फंड्स ।

Current investments

Inventory

मान लो एक दवाई बनाने वाली कंपनी है , दवाई बनाने में जो सामान (Salt) प्रयोग होता है उसे रॉ मेटेरियल कहते है , दवाइया अभी बन रही है उन्हें वर्क इन प्रोग्रेस कहते है , जो दवाई बन कर तैयार हो गए उसे finished goods कहते है ।

Trade receivable –

कंपनी अपना सामान क्रेडिट पर देती है , वह माल बेचने के लिए उन्हें समय देती है उनसे मिलने वाली पेमेंट को trade receivable कहते है।

Inventory

Cash and Cash Equivalents – 

कंपनी के पास जो कैश और assets होते है , जिन्हें कंपनी आसानी से कैश में कन्वर्ट कर सकती है उन्हें cash and cash equivalents कहते है।

Short Term loans and Advances-

कंपनी अपने कर्मचारी , को एडवांस या लोन देती है तो उसे short term loans and advances कहते है।

Other Current Assets –

ऊपर दिए टाइटल में जो assets नहीं आये वो other current assets में आते है ।

मुझे उमीद है आपको अब Balance Sheet क्या है: बैलेंस शीट को कैसे समझे 2 इस ब्लॉग में सब कुछ पता चल गया होगा | अब हम किसी  भी कंपनी की balance sheet देख कर उसकी स्तिथि का अंदाज़ा लगा सकते है । अन्य शेयर बाजार की गतिविधियों की जानकारी के लिए website पर आएं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here