IPO ke fayde in hindi 2021:आईपीओ में कैसे निवेश करे जानिए?

5
715
IPO क्या है
IPO

   IPO के फायदे:आईपीओ में कैसे निवेश करे

जब हम शेयर मार्किट की बात करते है तो हमे अनिश्चितता शब्द जरुर याद आता है , क्युकी शेयर बाज़ार में शेयर्स की पल में उथल – पुथल होती  है |

शेयर मार्किट में हमने कई टर्म्स के बारे में सुना होगा परन्तु उनके बारे में हमे पूरी जानकारी  नहीं होती | उसी एक टर्म आईपीओ ( IPO ) के बारे में हम आज बात करेगे | penny स्टॉक के बारे में पूरा पढने के लिए क्लिक करे https://tarunblogs.com/1138-2-penny-stock/

 

यदि आप शेयर बाज़ार में निवेश करना चाहते है तो आपको मार्किट को ट्रैक करना होगा , आपको शेयर्स कितना ऊपर या निचे जा रहा है , उस पर ध्यान रखना होता |आज के इस ब्लॉग में हम IPO के बारे में बात करने वाले है तो चलिए समझते है IPO को

contents

  1. IPO क्या है
  2. IPO  लाना एक बेहतर विकल्प
  3. सेबी के सखत कानून
  4. IPO में निवेश के लाभ
  5. आईपीओ में निवेश कैसे करे
  6. निष्कर्ष

IPO क्या है –

IPO को इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग( INITIAL PUBLIC OFFFERING)  भी कहते है | जब कोई नयी कंपनी पहली बार शेयर पब्लिक को OFFER करती है उसे IPO कहा जाता है |

शेयर मार्किट में इन्वेस्टिंग दो तरीके से होती है

  1. प्राइमरी मार्किट
  2. सेकेंडरी मार्किट

 

प्राइमरी मार्किट में आप IPO के द्वारा निवेश करते है और सेकेंडरी मार्किट में आप सीधे शेयर मार्किट में लिस्टेड कंपनी में निवेश कर सकते है |

आपकी जानकारी के लिए बता दू BSE में अब तक कुल 5000 से भी ज्यादा  कम्पनीज लिस्टेड है और NSE में 1600 से  भी ज्यादा लिस्टेड कंपनी है |

IPO के ज़रिये कंपनी को पैसे यानि फण्ड इकठा हो जाता है , और लोगो को उस कंपनी में शेयर के रूप में कंपनी में  हिस्सेदारी मिल जाती है |

 

IPO लाने का मुखय कारण –

IPO लाना एक बेहतर विकल्प –

 

कोई भी कंपनी के IPO लाने के काफी कारण होते है | हर कंपनी अपने बिज़नस को बड़ा करना चाहती है , उसके लिए उनको पैसे की जरूरत रहती है |

कंपनी दो तरह से पैसे इकठे कर सकती है | एक तो वो लोन ले जिस पर उसको फिक्स्ड ब्याज देनी होती है और इसमें वो ब्याज कंपनी की liability बन जाता है , और कंपनी को निश्चित समय में वो पैसा ब्याज सहित देना भी पड़ता है |

 

दूसरी तरफ अगर कंपनी आम जनता को शेयर्स ऑफर करती है तो  उस जगह कंपनी को पैसा वापस नहीं देना होता और वो उनका पैसा अपने बिज़नस को बढाने में लगा सकती है , शेयर होल्डर्स को कंपनी में हिस्सेदारी मिल जाती है उनके निवेश के मुताबिक और शेयर धारक कंपनी के फायदे और नुकसान के हिस्सेदार बन जाते है |

 

क़र्ज़ कम करने के लिए –

कई बार हमने देखा है जो नयी कंपनी होती है ,  उनके पास कैपिटल की कमी रहती है , वो अपना बिज़नस बढ़ाना तो चाहती है , पर उनके पास पैसे नहीं होते और वो क़र्ज़ ले लेती है बैंक से या किसी फाइनेंस कंपनी से |

तो इसलिए कंपनी उस क़र्ज़ को उतारने के लिए IPO ले कर आती है क्युकी उनको फिर निवेशको को पैसे वापस नही देने होते | निवेशक कंपनी के लाभ हानि के साझेदार हो जाते है | तो इसलिए कंपनी क़र्ज़ कम करने के लिए भी IPO लाती है |

 

सेबी के सखत कानून –

जिस तरह सब बैंक्स को रेगुलेट RBI ( रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया ) करता है उसी तरह शेयर मार्किट को रेगुलेट SEBI   ( The Securities and Exchange Board of India ) करती है |

सेबी ऐसे ही किसी कंपनी को लिस्टेड नहीं करने देती | कोई भी कंपनी जब IPO लाती है उसे सेबी के सखत कानूनों की पालना करती पड़ती है |  IPO लाने वाली कंपनी को पहले रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस दिखाती है

 

इस प्रॉस्पेक्टस में कंपनी को दिखाना पड़ता है जैसे

1.बिज़नस मॉडल एंड डिटेल

2.कैपिटल स्ट्रक्चर

3.रिस्क फैक्टर

  1. रिस्क स्ट्रेटेजी
  2. प्रोमोटर्स एंड मैनेजमेंट

 

ये रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस जो कंपनी IPO ले कर आती है उनको दिखाना ही पड़ता है , सेबी कंपनी पर पूरी निगरानी रखता है | यदि आप IPO कंपनी की जानकारी मतलब पूरी डिटेल देखना चाहते है तो आप सेबी की वेबसाइट में विजिट करे वह आपको सब मिल जायेगा |

 

IPO में निवेश के लाभ –

कई बार ipo कोई पुरानी कंपनी ही ले के आती है जैसे SBI CARDS इसका आईपीओ 2 मार्च को आया था , अब हम यहाँ SBI हमारा एक ट्रस्ट फैक्टर भी है जहा रिस्क ज्यादा नहीं है | कुछ नयी कंपनी जिनका हमने नाम नहीं सुना होता वो आईपीओ लाती है जैसे

दोदला डेरी लिमिटेड

जॉन एनर्जी लिमिटेड

नज़ारा टेक्नोलॉजी

सेनको गोल्ड लिमिटेड

पेनना सीमेंट

ये सब 2020 की आईपीओ है , इनका नाम बहुत कम लोगो ने सुना होगा |

अब सवाल ये आता है की हम आईपीओ से लाभ कैसे करे ? तो इसमें आप पहले कंपनी का बिज़नस मॉडल देखे की और खुद सोचे की ये मॉडल आगे हमे फायदा देगा , और कंपनी की कैपिटल जरुर देखे जो की आपको बता देगी की अगर कंपनी का समय बुरा होगा तो उस समय वो survive कर लेगी या नहीं |

तो आप ये देख कर एक नयी कंपनी से लाभ कमा सकते है |

 

IPO में निवेश कैसे करे –

 

ऊपर हमने सब कुछ समझ लिया , कंपनी आईपीओ क्यों लाती है , उसके कारण क्या होते है | तो अब सवाल ये आता है हम IPO में निवेश कैसे करे , किस तरह हम निवेश आईपीओ के शेयर्स खरीद सकते है | वेसे तो आईपीओ एक जोखिम भरा विकल्प हो सकता है क्युकी निवेशको को नयी कंपनी की पूरी जानकारी नही मिल पाती |

लेकिन आप कभी भी ज्यादा पैसे निवेश मत करे , ताकि आपका रिस्क ज्यादा न रहे |

जो कंपनी आईपीओ लाती है वो निवेशको को 3 से 10 दिन का समय देती है | मतलब जब भी कोई आईपीओ आता है उसको 3 से 10 दिन के बीच में खरीद सकते है जैसी की ANGEL BROKING का आईपीओ आया हुआ है |

तो आप जिस कंपनी का आईपीओ आया है उसकी वेबसाइट में जाये और शेयर को ख़रीदे |

निष्कर्ष –

तो ऊपर सब बातो को समझते हुए इतना तो हम अंदाज़ा लगा सकते है की आईपीओ में अगर हम सोच परख कर निवेश करे यानि कम्पनी की मैनेजमेंट , बिज़नस मॉडल और कैपिटल स्ट्रक्चर और उनकी पीछे की परफॉरमेंस को देख कर निवेश कर सकते है या अगर आप नए है तो आप आईपीओ लायी कंपनी को देखे की उसके शेयर का दाम कैसे बढ़ रहा है या कम हो रहा है |

 

यदि आप निवेश करना ही चाहते है तो आप एक ही बार में बहुत ज्यादा निवेश मत करे 1000 से 2000 रुपया तक निवेश करले जिस से अगर आपको लोस भी हुआ तो 2000 तक ही होगा , परन्तु यदि वो अच्छा आईपीओ निकला तो आप की सोच से ज्यादा आप मुनाफा कमा लोगे |

 

यदि आपका आईपीओ या शेयर मार्किट से जुड़ा कोई सवाल है तो आप मुझे कमेंट कर सकते है या आप मुझे ईमेल भी कर सकते है WADHWATARUN321@GMAIL.COM

ज्यादा जानकारी के लिए आप हमारी वेबसाइट https://tarunblogs.com विजिट जरुर करे |

 

 

 

 

 

 

5 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here